HomeEducationट्रांसफार्मर क्या है और इसके प्रकार - What is Transformer in Hindi

ट्रांसफार्मर क्या है और इसके प्रकार – What is Transformer in Hindi

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं transformer के बारे में अगर मैं आप लोगों से पूछो कि आपके गांव में बिजली रहती है या फिर नहीं तो आप लोगों का जवाब होगा हां रहती है लेकिन क्या होगा अगर मैं आप लोगों से बोलूं कि अगर आपके गांव का

transformer खराब हो जाएगा तो आपके गांव की बिजली भी कट जाएगी अब transformer से और विद्युत से क्या लेना देना आज हम लोग इस लेख में जानेंगे कि transformer क्या होता है यह कैसे काम करता है और इसका सिद्धांत क्या है तो अगर आप भी यह सब जानना चाहते हैं तो लेख को पूरा जरूर पढ़िए गा

आप लोगों ने अपने गांव के या फिर घर के दूर पर या नजदीक में ट्रांसफार्मर जरूर देखा होगा वही जो दो पोल की मदद से खड़ा किया रहता है और बीच में एक बड़ा machine रखा जाता है यह दिखने में बहुत ज्यादा डरावना दिखता है लेकिन यह मशीन है और इन्हीं मशीनें के बारे में आज के इस लेख में मैं आपको बताऊंगा यह बहुत ज्यादा important लेख होने वाला है 

ट्रांसफार्मर क्या है | what is transformer in hindi

आसान शब्दों में बोले तो ट्रांसफार्मर एक ऐसा electric यंत्र है जो एक जगह पर स्थिर रहता है और बिना किसी ऊर्जा और हानि के दूसरे से frequency से connect होकर आपको ऊर्जा देता है इसमें कोई pollution या फिर हानि नहीं होती है क्योंकि यह एक जगह स्थिर

आता है और इससे इसकी ताकत और ज्यादा बनी रहती है आजकल आपको हर एक गांव में 2 या फिर 3 transformer जरूर देखने को मिलता होगा और तो आप लोग जान गए होंगे ट्रांसफार्मर क्या होता है चलिए यह भी जान लेते हैं कि इसका प्रयोग क्यों किया जाता है इसका लाभ क्या है 

ट्रांसफार्मर का प्रयोग क्यों होता है | Why transformer is used in hindi

हमारे घर पर बिजली हमारे घर से कई 100 किलोमीटर दूर से आती है अब जाहिर सी बात है अगर transformer नहीं रहेगा तो यह बिजली हमारे घर तक नहीं ट्रांसफर हो पाएगी क्योंकि transformer एक स्थिर पावर स्टेशन है जो दूसरे power station से

बिजली लेता है जो कि उससे कई गुना ज्यादा ताकतवर है और वह बिजली अपने अंदर लेकर धीरे-धीरे तारों में छोड़ता है और तारों की मदद से बिजली आपके घर में जाती है अगर वही transformer नहीं रहता और direct कई 100 किलो मीटर से

तार खींचकर बिजली गांव गांव पहुंचाई जाती तब तारों में electric power बहुत ज्यादा बढ़ जाता जिससे कि बहुत ज्यादा नुकसान भी हो सकता है इसीलिए transformer बिजली उतनी ही मात्रा में छोड़ता है जितना की तार सहन कर ले और अच्छे से लोगों को फायदा करें

ट्रांसफार्मर के भाग | parts of transformer in hindi

वैसे तो एक transformer में बहुत सारे parts होते हैं लेकिन जो जरूरी पार्ट्स होते हैं जिन्हें आप के लिए समझना जरूरी है उसे ही मैं आप लोगों को सिर्फ बताता हूं और समझाता हूं

1• transformer main tank 

ट्रांसफार्मर में सबसे पहले एक बड़ा सा tank रहता है और उसी टैंक के अंदर transformer का जितना part रहता है उसे रखा जाता है ताकि वह सुरक्षित रहे transformer में तीन चीजें सबसे ज्यादा आवश्यक होती है सबसे पहले ट्रांसफार्मर के Time पर चारों तरफ से winding किया रहता है और उसके बाद उसमें mythic oil भरा जाता है और इसमें सबसे जरूरी core रहता है तो चलिए एक एक करके इन सभी को समझते हैं

what is core in transformer

ट्रांसफार्मर में core का बहुत ज्यादा महत्व रहता है transformer के बीचो बीच नरम लोहे का बना एक core तैयार किया जाता है और उसे ट्रांसफार्मर में रखा जाता है लेकिन इसे बनाने के लिए सबसे पहले नंबर लोहे को छोटे-छोटे पतले layar में काटा जाता है और उस पर बार burnish oil लगाया जाता है और

उसके बाद उस काटे हुए layar को चिपका कर मोटा बनाया जाता है और उसे transformer time में रखा जाता है अगर हम लोग पतले पतले layer की जगह एक ही लोहे को Tank में डाल दें तो इससे बहुत बड़ा नुकसान होगा जहां पर भी ट्रांसफार्मर

में खाली जगह रहता है वहां पर Eddy current उत्पन्न होता है इसीलिए लोहे के layar को मिलाकर कोर को तैयार किया जाता है और उस पर burnish कर दिया जाता है ताकि ए जोक Eddy current उत्पन्न हो वह थोड़ा कम हो जाए

what is primary winding in transformer

जब नरम लोहे को मिलाकर ट्रांसफार्मर Core तैयार कर लिया जाता है तब उसे तांबे के तार से winding की जाती है यानी कि लपेटा जाता है और यह winding दो layer में किया जाता है 

what is secondary winding in transformer

जब Core में primary winding यानी कि पहला बार तांबे के तार से लपेट दिया जाता है और उसके बाद उन लोगों को दूसरी बार भी copper के तार से लपेटना रहता है यानी कि 2 layer में और प्राइमरी वेंडिंग और secondary winding एक दूसरे से कनेक्ट ना हो इसके लिए जब पहली

बार कोर में तांबा का तार लपेटा जाता है तो उसके बीच में एक insulator का लेप लगाया जाता है जो कि कागज की तरह रहता है और वह primary winding को और secondary winding को एक दूसरे से मिलने से रोकता है

अब उसके बाद कोर को उठाकर ट्रांसफार्मर के Tank में डाला जाता है लेकिन उसके अगल-बगल जो खाली जगह बसता है तो उसे नेबथा oil और यह तेल बहुत ज्यादा गाढ़ा रहता है इसे उस Tank में डाल दिया जाता है ट्रांसफार्मर के इससे क्या होगा कि जब जगा भर जाएगा तो Eddy current नहीं उत्पन्न होगी और transformer बिल्कुल सुरक्षित रहेगा ।

what is expansion tank in transformer

ट्रांसफार्मर में Eddy current ना उत्पन्न हो इसके लिए उसमें एक गाढ़ा ऑयल को डाला जाता है लेकिन जब transformer दो-चार महीना हो जाता है तो वह तेल धीरे-धीरे खत्म होने लगता है और जब यह तेल खत्म हो जाएगा तो transformer में खाली जगह बचेगा जिसमें Eddy current उत्पन्न हो जाएगा

और यह ट्रांसफार्मर को ब्लास्ट भी कर सकता है transformer के ऊपर एक छोटा टैंक बनाया जाता है जिसे हम लोग expansion tank बोलते हैं और इसमें तेल नेब्था आइल को भर दिया जाता है जब भी टैंक का तेल खाली होने लगेगा यह उसमें से ट्रांसफर कर देगा जिससे कि transformer हमेशा भरा रहेगा

ट्रांसफार्मर क्या है और इसके प्रकार - What is Transformer in Hindi
ट्रांसफार्मर क्या है और इसके प्रकार – What is Transformer in Hindi

what is breather in transformer

आप लोगों ने यह तो सुना होगा कि हवा में नमी पाई जाती है और transformer में अगर नमी चली जाए तो वह खराब हो जाता है क्योंकि हवा को तो कोई रोक नहीं सकता और जब भी हवा ट्रांसफार्मर के एक्सपेंसिव टैंक में जाएगी तो उसके थ्रू वह main tank में भी जा सकती है जिससे कि ट्रांसफार्मर भड़क सकता है

इसीलिए वहां पर Breather का इस्तेमाल किया जाता है और इस Breather में silica gel भरा जाता है जो कि एक ऐसा पदार्थ रहता है वह हवा को अपने अंदर खींच लेता है और उसमें के नमी को सोख लेता है और जब यह ट्रांसफार्मर के expensive tank पर लगा दिया जाता है तो हवा अंदर नहीं जा पाता है उसे सिलिका जेल रोक लेता है और Breather नीला कलर का रहता है

what is Buchholz Relay in transformer 

आप लोगों ने यह तो देखा होगा कि बहुत बार transformer overheating हो जाता है और वह भड़कने के कगार पर आ जाता है और बहुत सारे लोग डरते हैं और उसके करीब नहीं जाते हैं बंद करने के लिए इसीलिए उसमें एक device लगाया जाता है जिसका नाम है

buchholz Relay इसका काम ही रहता है कि जब भी transformer का तेल गर्म हो जाएगा और भाप में बदलकर उड़ने लगेगा तब यह आपको अलार्म से सतर्क कर देगा और जब कोई इसे बंद नहीं करेगा तो यह अपने आप से ही पूरे ट्रांसफार्मर को बंद कर देता है automatic system है इसमें ।

what is cooling tube in transformer 

आप लोगों ने transformer में यह तो देखा होगा कि उसमें एक पतला पतला जालिनुमा में एक खिड़की टाइप रहता है हालांकि वह जालीनुमा cooling machine  जाता है जब भी ट्रांसफार्मर का तेल गर्म होता है तो वह उस जालिनुमा के रास्ते धीरे-धीरे नीचे उतरता है

और तब तक हवा भी थोड़ा चल जाएगा तो वह तेल ठंडा हो जाएगा और तेल ठंडा करने के बाद वह वापस transformer के टैंक में चला जाएगा तो cooling tube बहुत ज्यादा जरूरी होता है ट्रांसफार्मर के लिए

ट्रांसफार्मर के बारे में और भी बहुत सारी जानकारी है जो मैं आप लोगों को इस ब्लॉग के सेकंड पार्ट में बताऊंगा जैसे कि

ट्रांसफार्मर क्या होता है

ट्रांसफार्मर के उपयोग क्या है 

ट्रांसफार्मर से होने वाले लाभ 

ट्रांसफार्मर से होने वाले नुकसान

इसे भी पढ़ें 

pi Network क्या होता है

कोडिंग क्या है ? What is coding

how to learn video editing free

share मार्केट क्या है और कैसे सीखे

upstox क्या है पूरी जानकारी

इत्यादि इन सभी चीजों के बारे में हम लोग इस Blog के part 2 में जानेंगे अगर आप लोगों को यह जानकारी पसंद आई होगी तो अपने दोस्तों के साथ भी Share करिएगा ~ धन्यवाद ~

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular